Showing 2 Result(s)
Thought

जट्टवाद एक दीर्घ रोग

s ajmer singh

  सरदार अजमेर सिंह (Sardar Ajmer Singh) (यह लेख सरदार अजमेर सिंह की बहुचर्चित किताब ‘बीसवीं सदी की सिख राजनीति: एक ग़ुलामी से दूसरी ग़ुलामी तक’ जो कि पंजाबी भाषा में है, से हिंदी में अनुदित किया गया है। सरदार अजमेर सिंह पंजाब के एक जाने माने इतिहासकार हैं। ब्राह्मणवाद की गहन समझ रखने वाले अजमेर …

Thought

Dr. Ambedkar’s Invaluable Advice on the Sikh Right to Self-rule

s ajmer singh

  Sardar Ajmer Singh This article is an excerpt from S. Ajmer Singh’s book “Biswi Sadi Ki Sikh Rajneeti: Ek Ghulami Se Dusri Ghulami Tak” (The Sikh Politics of the 20th Century: From One Slavery to Another) On the circumstances emerging after the partition of Punjab, and the creation of a Self-ruled Sikh state After …